आप की तरह अनमोल नहीं होता

आप की तरह अनमोल नहीं होता

मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता

कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता

वैसे लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर

पर कोई आप की तरह अनमोल नहीं होता ।


 

Khamosh Raat Mai Sitare Nai Hote.

Udaas Akho Mai Rangeen Nazare Nai Hote.

Ham Kabhi Na Kate Yaad Apko.

Agar Aap Itne Pyare Na Hote.


 

क़ाश कोई ऐसा हो जो गले लगा कर कहे ,
तेरे दर्द से मुझे भी………..तकलीफ़ होती है….!!!


 

हैरान हूँ मैं ख़ुद, अपने सब्र का पैमाना देखकर…*💕💕
उसने याद नहीं किया, और मैंने इंतज़ार नहीं छोड़ा….!!!!* 💕💕

 


 

इस सफर में अभी सबक और बाकी है
ठोकरें मिली है, गहरी चोट और बाकी है।

बस अपनो के हाल चाल लेते रहिए
क्या पता कब किसका साथ छूट जाए 💕💕

 


 

😍झूम‬ लूं तेरी 👰ही ‪ ‎बाँहों‬ में एक ‪ ‎खुशी‬ 😊बनकर,😘💕💕
जो ‪ ‎मिल‬ 💏जाए तू मुझे एक ‪ ‎जिंदगी‬ 😍बनकर 😘

~ Credit Facebook

मेरे कदम बहक जाते हैं

जिस चमन से गुजर जाओ, हर कली पर निखार आ जाये,

तुम रूठों तो रूठ जाये खुदा, हंस दो तो बहार आ जाये |

 

तुम्हारी उड़ती हुई जुल्फों को देखकर दिल मचल जाता है,

जब तुम मेरे करीब होती हो तो कदम बहक जाता है |

Sad Shayari

वह दिन, दिन नहीं, वह रात, रात नहीं,

वह पल, पल नहीं, जिसमें आपकी याद नहीं,

हमें कोई आपसे जुदा कर सके,

मौत की भी इतनी औकात नहीं|

 

फूल सूख जाते हैं, एक वक्त के बाद,

लोग बदल जाते हैं, एक वक्त के बाद,

अपनी भी दोस्ती टूटेगी, एक वक्त के बाद,

पर वो वक्त होगा, मेरी मौत के बाद |

 

तुम्हारी जुल्फों के साये में ना जाने कब शाम हो गयी,

तुमसे जो जुदा हुए तो ये शाम वीरान हो गयी |

 

अपनी बेबसी पे हम ढेरों आँसूं बहाते हैं,

तेरे साथ गुजारे लम्हें जब याद आते हैं |

 

जब याद तुम्हारी आती है, तब दर्द जिगर में होता है,

जब सारी दुनिया सोती है, तब हर रोज रात को रोता हूँ |

2021 Sad Shayari

मेरा गम तेरी जज्बात से बेहतर होगा,

मेरा दिन तेरी हर रात से बेहतर होगा|

यकीन न आये तो डोली से झांककर देख लेना,

मेरा जनाजा भी तेरी बारात से बेहतर होगा|

 

कभी कभी दिल उदास होता है,

हल्का – सा आँखों में एहसास होता है,

छलकते हैं मेरी आँखों से आँसूं,

जब तुम्हारे दूर होने का एहसास होता है|

 

न तस्वीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये,

न तुम पास हो जो प्यार किया जाये,

यह कौन सा दर्द दिया है आपने,

न कुछ कहा जाये न तुम बिन रहा जाये|

 

तुम्हारी जुदाई सह न सकेंगे,

हाल – ए – दिल कह न सकेंगे,

जानते हैं की यह मिलन नहीं संभव,

लेकिन तेरे बिन रह न सकेंगे|

पलकों से अश्क मेरे रुकते नहीं हैं,

लोग मेरा गम समझते नहीं हैं|

 

उम्र भर साथ तुम्हारा भूल न पाएंगे,

प्यार करेंगे इतना की याद तुम्हें भी आयेंगे,

मरकर छोड़ देता है, जिस्म यह दुनिया,

हम वह आशिक हैं, जो मरकर भी साथ निभाएंगे|

 

चले भी आओ, हम तुम्हीं से प्यार करते हैं,

यह वह गुनाह हैं, जो हम बार बार करते हैं,

जलाकर इस दिल को मोहब्बत में,

तुम्हारे आने का इंतजार करते हैं|

उदासी भरे दिन

कहाँ तक ये मन को अँधेरे छलेंगे
उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे
कभी सुख, कभी दुःख, यही ज़िन्दगी है
ये पतझड़ का मौसम, घड़ी दो घड़ी है
नए फूल कल फिर डगर में खिलेंगे
उदासी भरे दिन…
भले तेज़ कितना हवा का हो झोंका
मगर अपने मन में तू रख ये भरोसा
जो बिछड़े सफ़र में तुझे फिर मिलेंगे…