दिल की बात 2 – Jyoti Rakesh

  • मुस्कुरा कर मिला करो हमसे,
    कुछ कहा और सुना करो हमसे..

बात करने से बात बढ़ती है,
रोज़ बातें किया करो हमसे..


kya chahe rab se, tumhe pane ke baad,kisaka kare intizaar ,Tere aane ke baad, kyo mohbbat me jaan loota dete hai,Log, Maine bhi ye jana ishq karne ke baad.


karu tera jikar ya ehsaas me rahne du ,Karu tujhe mehsus ya dhadkano m rahne du, Tujhe lfjo m byan karu ,ya ibadat me rahne doo .


Raat gum sum hai magr chand khamosh nahi,

kaise kah de Aapko mujhe hosh nhi,

Aise dube hai Aapki ankho ki gahrayi me hum,

Hath me jam hai, Magr pine ka hosh nahi.


जैसी है तेरी ख्वाइश वैसे प्यार करेंगे,
हर धड़कन पर अपनी वफ़ा का इक़रार करेंगे,
जहाँ भी जाओगे हर कदम हममे ही पाओगे,
इश्क़ के हर मोड़ पर तेरा इंतज़ार करेंगे।


हाथ कि लकीरों पर ऐतबार कर लेना,
भरोसा हो तो किसी से प्यार कर लेना,
खोना पाना तो नसीबों का खेल है,
ख़ुशी मिलेगी बस थोड़ा इंतज़ार कर लेना।

नन्ही सी एक कली

नन्ही सी एक कली

नन्ही सी एक कली थी
अपने पापा के हाथों पली थी
हर गम हर दर्द से अनजान
पापा के सर माथे चढ़ी थी
हँसना खिलखिलाना सिर्फ ये ही तो जीवन था…..
कितने रिश्तों की भीड़ थी
सबके दिलो की डोर थी
दादी की लाडली बुआ कि दुलारी
यहां वहां दौड़ना बस ये ही तो काम था…
पढ़ते लिखते खेलते इठलाते
जवानी में कदम आगया
बहुत कुछ छूटा और बहुत कुछ पा लिया
अभी बस चाहा ही था कि जी भर के जीऊँगी अपनी जिंदगी पर…..
जैसे ही सपनो ने भरी उड़ान थी
अरमान कुछ उड़ने को ही थे
किस्मत को जाने क्या ठानी थी
रुखसत ए विदाई हो गयी
मेरे सपनों की टोकरी मानो जैसे टूट गयी और…… अब हाल ये होगये
हर मंजिल हर खुशी हर हसीं रूठ गयी
अपने पापा की वो
छुईमुई सी कली अब बुझ गयी….

……………..

मेधा शर्मा

 

मै लिख दूगां……..

मै लिख दूगां
तुम पढ़ लेना
मै जज्बातों को कह दूंगा
तुम सुन लेना
प्रेम है या नही मत पूछना
मै तुम्हें नही समझा पाऊंगा
दिल की डोर बंधी है तुम से
उसको नही दिखा पाऊंगा
तुम हो या न हो फिर भी
मन मे छवि तुम्हारी बसाऊंगा
कितना प्रेम है इसका
मोल न लगा पाऊंगा
प्रेम क्या है और क्यों है
इसकी परिभाषा न बता पाऊंगा
मै पास तेरे हूँ या नही
बस दिल से याद कर लेना
मै खुद ही एहसास बनकर चला आऊंगा
अपना समझे या नही
#अंजान समझकर ही
चेहरे पर मुस्कान रख लेना
प्रिये बाकी तुम खुद ही समझ लेना…………

#अंजान…….

अपने अंदर झांकें कौन ?

अपने अंदर झांकें कौन ?
झाँक रहे है इधर उधर सब अपने अंदर झांकें कौन ?
ढ़ूंढ़ रहे दुनियाँ में कमियां अपने मन में ताके कौन ?
दुनियाँ सुधरे सब चिल्लाते खुद को आज सुधारे कौन ?
पर उपदेश कुशल बहुतेरे खुद पर आज विचारे कौन ?
हम सुधरें तो जग सुधरेगा यह सीधी बात स्वीकारे कौन?
🙏🚩जय श्रीराम🚩🙏