डूब गयी सब यादें उसकी,

रंग धुली और शाम हुयी,

दिल में जो ख्याल आये,

बिखरी और नाकाम हुयी|