वक्त की धूप में झुलसे अरमां मेरे,

चाहत की एक धीमी सी फुहार आ जाये,

मेरी जिन्दगी में गर तुम आ जाओ,

तो पतझड़ में जैसे बहार आ जाये|

+1