चांदनी रात है और तुम दूर हो,

कांपते होंठ के अनछुए साज है,

राज की बात है और तुम दूर हो|