भारत की महान नारियाँ – भाग 4

डॉ. ऐनी बेसेंट 'भारत की संताने ही यदि हिन्दुत्व की रक्षा नहीं करेंगी, तो कौन आयेगा उसे बचाने ? हिन्दुत्व के बिना भारत क्या है एक निष्प्राण शरीर! भारत को बचाने के लिये हिन्दुत्व को बचाया जाना जरुरी है। अच्छी तरह समझ लीजिये, भारत और हिन्दुत्व एक ही हैं। बिना हिन्दुत्व...

read more

भारत की महान नारियाँ – भाग 3

रानी दुर्गावती दुर्गावती का जन्म लगभग चार सौ वर्ष पूर्व कालिंगर के राजा कीर्तिराय की एकमात्र सन्तान के तौर पर हुआ। बाल्यकाल से ही दुर्गावती पुरुषों से भी बढ़चढ़ कर कुशलता और प्रवीणता से शस्त्र संचालन और घुड़सवारी करती थी। गढ़ मण्डला के राजा दलपति शाह ने जब एक बार...

read more

भारत की महान नारियाँ – भाग 2

विदुषी उभय भारती मिथिला क्षेत्र अपने सांस्कृतिक ज्ञान के विभिन्न रूपों के लिये प्राचीन काल से ही प्रसिद्ध था। मिथिला में एक से एक पंडित दूर-दूर से आते थे। वहाँ कई कई दिन तक चलने वाले शास्त्रार्थ में जीवन जगत से सम्बन्धित विषय पर वाद विवाद होता था। विजयी पंडितों को...

read more

भारत की महान नारियाँ – भाग 1

सती अनुसूइया मातु पिता भ्राता हितकारी मितुप्रद सब सुनु राजकुमारी॥ अमित दानि भर्ता बयदेही। अधम सो नारि जो सेव न तेही वनवास के समय जब राम, लक्ष्मण और सीता जी सहित महर्षि अत्रि के आश्रम पहुंचे तो वहाँ उनकी पत्नी अनुसूइया जी ने सीताजी को यही सुमंत्र दिया कि माता, पिता,...

read more
करूँ वंदन हे शिव नंदन तेरे चरणों की धूल है चन्दन

करूँ वंदन हे शिव नंदन तेरे चरणों की धूल है चन्दन

करूँ वंदन हे शिव नंदन,तेरे चरणों की धूल है चन्दन,तेरी जय हो गजानन जी,जय जय हो गजानन जी।। विघ्न अमंगल तेरी कृपा से,मिटते है गजराज जी,विश्व विनायक बुद्धि विधाता,श्री गणपति गजराज जी,जब भी मन से करूँ अभिनन्दन,अंतर मन हो जाए पावन,तेरी जय हो गजानन जी,जय जय हो गजानन जी। करूं...

read more