BestSellers

फरेब था हसीं में, आशिकी समझ बैठे,

मौत को ही अपनी जिन्दगी समझ बैठे,

वक्त का मजाक था या बदनसीबी हमारी|