BestSellers

हसीं ने लबों पर थिरकना छोड़ दिया,

ख्वाबों ने नींद में आना छोड़ दिया|

नहीं आती अब तो हिचकियाँ भी,

लगता है अपनों ने याद करना छोड़ दिया|