कोरोना : लापरवाही न करें

बुखार का पहला दिन: ये बुखार है, ठीक हो जायेगा, मुझे कोविड तो हो ही नहीं सकता, क्योंकि यह बीमारी ही नहीं होती है।
बुखार का दूसरा दिन: हर बुखार कोविड थोड़े होता है, लेकिन फिर भी पैरासिटामोल खा लेता हूँ।
बुखार का तीसरा दिन: RT-PCR टेस्ट करवा के क्या होगा, सीधे CT Scan करवा लेता हूँ। (सिर्फ 2-3 दिन में CT स्कैन में कुछ खास नहीं आयेगा, तो कोविड इडियट कहेगा कि कोरोना नहीं है)
बुखार का चौथा दिन: ये बुखार तो पीछे ही पड़ गया, चलो ब्लड टेस्ट करवा लेते हैं। डॉक्टर को पैसे क्यों देना है, वो भी तो यही सब टेस्ट करवायेगा। (टेस्ट में टाईफाइड फाल्स पॉजिटिव आयेगा, क्योंकि वह क्रॉस-रिएक्टिव है)
बुखार का पांचवा दिन: मैंने पहले ही कहा था कि यह टाईफाइड है, अब डॉक्टर को ₹300 क्या देना है, कुछ एंटीबायोटिक खरीद के खा लेते हैं।
बुखार का छठा दिन: अभी, कल ही तो एंटीबायोटिक शुरू किया है, थोड़ा समय तो लगेगा।
बुखार का सातवां दिन: ये बुखार तो पिछे ही पड़ गया। एक फ्रेंड डॉक्टर है, उस से पूछते हैं। कुछ देर बाद… ये डॉक्टर सब का लैब में कमीशन होता है, देखो PCR Test के लिए बोल रहा है। उसके रिपोर्ट में भी 1-2 दिन लगेगा।
बुखार का आठवां दिन: अरे, मुझे सांस लेने में दिक्कत क्यों हो रही है? कोई अस्पताल ले चलो। (लेकिन कोविड रिपोर्ट नहीं है).
बुखार का नौवां दिन: ऑक्सीजन लेवल 90% से निचे जा रहा है, लेकिन कहीं बेड नहीं मिल रहा है। ये सरकार एकदम बेकार है।
बुखार का दसवां दिन: ऑक्सीजन लेवल 80% से निचे है, बहुत मुश्किल से एक बेड मिला है। लेकिन राहत नहीं है, ये अस्पताल एकदम बेकार है।
बुखार का ग्यारहवां दिन: वेंटिलेटर पर गये, अब परिवार वाले डॉक्टरों को दोष दे रहे हैं।
बुखार का बारहवां दिन: संक्रमण इतना बढ़ गया कि मरीज की मौत हो चुकी है, बाकी के लोग डॉक्टरों से लड़ रहे हैं।आप लोगों को कुछ नहीं आता, दो हफ्ते पहले स्वस्थ आदमी का जान ले लिया। (अस्पतालों की स्थिति भी अच्छी नहीं है, बेड की लिए इतनी मारामारी है कि वहाँ भी लापरवाही हो रही हैं)
इसी बीच, कुछ और लोग, इसी तरह की गलती करने में लगे हुये हैं।
कृप्या अपनी तरफ से लापरवाही न करें।
🙏🙏🙏
अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें 👇

कृपया हमारे पेज को लाइक और शेयर करें

https://www.facebook.com/siddhi.ayurveda.9

कोविड 19 की वैश्विक माहमारी में पाचन तंत्र ख़राब होने का सरल आयुर्वेदिक उपचार – डॉ हेमांग राय

हमारे शरीर का पाचन तंत्र ही खाए गए भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित कर रोग प्रतिरोधक क्षमता का निर्माण करता है। पाचन क्रिया खराब होने पर भोजन पूरी तरह से पचता नहीं है, जिसके कारण शरीर को पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता। आयुर्वेद की मानें तो पेट की अपच सभी तरह की बीमारियों को निमंत्रण देती है और शरीर में बहुत सी समस्याओं का कारण भी बनती है। जाहिर है कि आज की आधुनिक जीवनशैली में पाचन क्रिया प्रभावित होना आम समस्या बन गई है, जिसका नतीजा स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के रूप में हमारे सामने आता है।

पाचन तंत्र ख़राब होने के लक्षण –

  • बदहजमी का होना.
  • कब्ज की शिकायत होना.
  • अपच (Indigestion)
  • एसिडिटी (Acidity)
  • पेट से जुड़ी समस्याये.
  • सीने में जलन का होना
  • इरिटेबल बाउल सिंड्रोम
  • डायरिया का हो जाना

 

पाचन तंत्र ख़राब होने के कारण –

  • एक ही जगह घंटो तक बैठ कर काम करना
  • फास्ट फूड या जंक फूड खा लेना
  • दिनचर्या का सही न होना.
  • पूरी नींद नहीं ले पाना.
  • काम या किसी बात को लेकर तनाव का होना.
  • शारीरिक श्रम कम करना.
  • खाने-पीने में कमी करना.
  • बहुत कम मात्रा में पानी पीना.
  • तम्बाकू उत्पाद (शराब और सिगरेट ) का अधिक सेवन करना.
  • अधिक मात्रा में भोजन लेना.
  • अनियमित भोजन करना.
  • देर रात तक जगे रहना.

 

पाचन तंत्र को जल्दी ठीक करने के सामान्य उपाय –

  1. अधिक मात्रा में पानी पीये।
  2. अपनी दिनचर्या सही रखे।
  3. रात को जल्दी सो जाए।
  4. गहरी और अच्छी नींद ले।
  5. तनाव को करे दूर।
  6. फास्ट फ़ूड को कहे अलविदा।
  7. शारारिक कार्य जरुर करे।
  8. सही समय पर रोजाना भोजन करे।
  9. खाने – पीने में कमी न करे।
  10. शराब और सिगरेट से दूर रहे।
  11. अधिक खाना खाने से बचे।
  12. हमेशा बैठे – बैठे काम न करे।
  13. ऑयली खाने से परहेज करे।
  14. वसायुक्त भोजन लेने से बचे।
  15. रोजाना व्यायाम करे।

 

Please subscribe our channel and like videos.

 

हौसला और विश्वास

डाली से टूटा फूल फिर से नहीं लग सकता है मगर डाली मजबूत हो तो उस पर नया फूल खिल सकता है,

इसी तरह जिंदगी में खोये पल को वापिस ला नहीं सकते मगर हौंसले और विश्वास से आने वाले हर पल को खूबसूरत बना सकते हैं।

शुभ प्रभात ।।

Quote of the day – 26 May 2020

“The absence of alternatives clears the mind marvelously.”

‐ Henry A. Kissinger, Nobel Laureate and former American Foreign Minister

 

 

“विकल्पों का न होना बुद्धि को बढ़िया ढंग से परिमार्जित कर देता है।”

‐ हेनरी ए किसिंगर, नोबेल विजेता व भूतपूर्व अमरीकी विदेश मंत्री

Quote of the day – 23 May 2020

“The old law about ‘an eye for an eye’ leaves everybody blind.”

‐ Martin Luther King, Jr.

“’आंख के बदले आंख’ के प्राचीन सिद्धान्त से तो एक दिन सभी अंधे हो जाएंगे।”

‐ मार्टिन लुथर किंग, जूनियर

Quote of the day – 22 May 2020

“He who is fixed to a star does not change his mind.”

‐ Leonardo da Vinchi (1452-1519), Italian Artist, Composer and Scientist

“जो व्यक्ति किसी तारे से बंधा होता है वह पीछे नहीं मुड़ता।”

‐ लेओनार्दो दा विंची (1452-1519), इतालवी कलाकार, संगीतकार एवं वैज्ञानिक

Quote of the day – 21 May 2020

“Be like a postage stamp. Stick to one thing until you get there.”

‐ Josh Billings (1818-1885)

“डाक टिकट की तरह बनिए, मंजिल पर जब तक न पहुंच जाएं उसी चीज़ पर जमे रहिए।”

‐ जोश बिलिंग्स (1818-1885)

Advertisement

advertisement
Dr. Hemang rai, ayurvedic doctor

CATEGORIES