परायी लड़कियों के पीछे

एक बार एक किसान ने अपने दोनों लड़कों की शादी एक ही दिन कर दी|

किसान एक गरीब आदमी था| पर उसके पास तीन मंजिल मकान था|
उसने छोटे लड़के को सबसे ऊपरी मंजिल दे दिया।

और बड़े को पहली मंजिल, खुद अपनी बीवी के साथ निचली मंजिल पर रहता था.

सुहाग रात वाले दिन सबसे पहले छोटे लड़के ने ठुकाई शुरू की।

तो आवाज सुन के बड़े भाई का भी दिल हुआ तो वो भी शुरू हो गया।

इसी तरह उनकी आवाज नीचे आयी तो बूढ़े का भी दिल करने लगा, वो भी शुरू हो गया।

लड़के जवान थे उन दोनों ने आधे घंटे बाद फिर से शुरू हो गए।

बूढ़े ने भी देखा देखि एक बार और ट्रिप मार ली।

लड़कों का खून अभी भी गरम था, वो एक घंटे बाद फिर शुरू हो गए।

बूढ़े बेचारे में इतनी जान कहा थी, वो गुस्से में आकर लड़कों को नीचे से जोर से आवाज देकर बोला।

बूढ़ा : “परायी लड़कियों के पीछे कम्पटीशन कर के अपनी माँ क्यों चुदवा रहे हो”