Quote of the day – 30 September 2019

“Art’s a staple. Like bread or wine or a warm coat in winter. Those who think it is a luxury have only a fragment of a mind. Man’s spirit grows hungry for art in the same way his stomach growls for food.”

‐ Irving Stone

“रोटी या सुरा या लिबास की तरह कला भी मनुष्य की एक बुनियादी ज़रूरत है। उसका पेट जिस तरह से खाना मांगता है, वैसे ही उसकी आत्मा को भी कला की भूख सताती है।”

‐ इरविंग स्टोन

Quote of the day – 28 September 2019

“Don’t believe that winning is really everything. It’s more important to stand for something. If you don’t stand for something, what do you win?””

‐ Lane Kirkland

“यह मत मानिए कि जीत ही सब कुछ है, अधिक महत्त्व इस बात का है कि आप किसी आदर्श के लिए संघर्षरत हों। यदि आप किसी आदर्श पर डट नहीं सकते तो आप जीतेंगे क्या?”

‐ लेन कर्कलैंड

Quote of the day – 26 September 2019

“The ultimate test of man’s conscience may be his willingness to sacrifice something today for future generations whose words of thanks will not be heard.”

‐ Gaylord Nelson, US Senator

“मनुष्य के सद् विवेक की अंतिम कसौटी शायद उन भावी पीढ़ियों के लिए आज कुछ त्याग करने की उसकी इच्छा ही है जिन के धन्यवाद के शब्द उसे कभी सुनाई नहीं देंगे।”

‐ गेलॉर्ड नेलसन, अमरीकी राजनीतिज्ञ