किसी भी नींव का सबसे मजबूत पत्थर सबसे निचला ही होता है।‐ खलील ज़िब्रान (१८८३-१९३१), सीरियाई कवि